भारत के सबसे साफ शहर 2019  India’s top 10 cleanest city 2019

दोस्तों  सफाई हमारे पर्यावरण को बचाने के लिए कितनी जरूरी है यह किसी को बताने की जरूरत नहीं है। हम सब चाहते हैं कि हमारा शहर साफ रहे, लेकिन क्या हम जानते हैं कि हमारा शहर कितना साफ है ,कितना नहीं। क्या आप जानते हैं कि भारत के 10 सबसे साफ शहर कौन से हैं? अगर नहीं तो इस पोस्ट को पूरा पढ़िए आपको कुछ ना कुछ जरूर नया सीखने को मिलेगा। आइए शुरू करते हैं-

भारत के सबसे साफ शहर 2019

1. इंदौर

मध्य प्रदेश की औद्योगिक राजधानी इंदौर को साफ शहरों की सूची में पहला स्थान प्राप्त है। इंदौर को स्वच्छता का खिताब पिछले 3 सालों से दिया जा रहा है। इंदौर कुल 530 वर्ग किलोमीटर में फैला है। यहां की आबादी 19.9 लाख के लगभग है। इतने बड़े शहर को साफ रखना काफी ज्यादा मुश्किल है लेकिन इंदौर के लोगों ने यह करके दिखाया है। यहां पर राजवाड़ा पैलेस, लाल बाग पैलेस जैसे घूमने के स्थल हैं। यहां पर राज करने वाले होलकर साम्राज्य के नाम पर होलकर स्टेडियम बनाया गया है।

2. भोपाल

भोपाल भारत के सबसे हरियाली वाले शहरों में एक है इसके हरा -भरा होने का कारण यहां पर मौजूद झील तथा वन विहार हैं। दोस्तों भोपाल को झीलों का शहर भी कहा जाता है। इस शहर की आबादी 18 लाख है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि भोपाल पिछले 3 सालों से भारत का तीसरा सबसे साफ शहर है।

हमारे अन्य लेख भी अवश्य पढ़ें-

3. चंडीगढ़

1 नवंबर 1966 को केंद्र शासित प्रदेश बना चंडीगढ़ तब से अब तक काफी तरक्की कर चुका है चंडीगढ़ को पंजाब और हरियाणा दोनों ही राज्यों की राजधानी बनाया गया है। इस कारण इसे दोनों ही राज्यों की सरकारों द्वारा देखरेख मिलती रही है। यह देश का सबसे ज्यादा हरा भरा शहर है साथ ही साथ इसे देश के सबसे ज्यादा डिजाइन किए गए शहरों में भी एक माना जाता है। जल्द ही चंडीगढ़ सोलर पावर से चलने वाला शहर बन जाएगा। चंडीगढ़ की आबादी 10 लाख के लगभग है। माता चंडी का मंदिर यहां के आकर्षण का केंद्र है इसी नाम पर इस शहर का नाम चंडीगढ़ रखा गया है। चंडीगढ़ में देखने लायक शिवालिक रेंज पहाड़ियां हैं।

4. विशाखापट्टनम

विशाखापट्टनम भारत का चौथा सबसे साफ शहर है यहां की आबादी 21 लाख के लगभग है इतनी बड़ी आबादी होने के बावजूद यह शहर हर समय चमकता है। यह एक बंदरगाह वाला शहर है। कैलाशगिरी हिल पार्क, सबमरीन संग्रहालय, रामकृष्ण ब्रिज, अरकू वैली, डॉल्फिन नोज, कतिकी फॉल्स, जगदंबा सेंटर, इंदिरा गांधी जूलॉजिक पार्क यहां यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। यह पर्यटन स्थल यहां की खूबसूरती में चार चांद लगा देते हैं। इसी कारण दुनिया के कोने कोने से लोग यहां पर इन पर्यटन स्थलों का आनंद उठाने के लिए आते हैं अगर आप विशाखापट्टनम जाएं तो इन पर्यटन स्थलों का मजा जरूर उठाइएगा।

5. सूरत

सूरत को यहां की टेक्सटाइल मार्केट के लिए जाना जाता है। सूरत कपड़ों के व्यापार का केंद्र है। सूरत की आबादी कुल 44.6 लाख है यह कुल 327 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। ताप्ती नदी के किनारे बसा सूरत बंदरगाह इलाका है। इसीलिए पुर्तगाली भारत में जब कालोनिया बसा रहे थे तब उन्होंने सूरत को भी अपने एजेंडे में शामिल किया था। लेकिन पुर्तगालियों से बचने के लिए सूरत में 15वीं शताब्दी के समय सूरत के किले का निर्माण किया गया था।

6. मैसूर

कर्नाटक का शहर मैसूर सन 1399 से 1947 तक मैसूर साम्राज्य की राजधानी रहा है। इसे टीपू सुल्तान जैसे शासकों के लिए जाना जाता है। यहां पर कई सारे पैलेस मौजूद है। इस शहर की आबादी 8.8 लाख है। मैसूर शहर को देखकर लगता है कि आबादी का हर व्यक्ति शहर को साफ़ रखने के लिए अपनी जिम्मेदारी निभा रहा है।

7. तिरुचिरापल्ली

तिरुचिरापल्ली तमिलनाडु के प्रमुख शहरों में से एक है। यह दो नदियों के बीच बसा काफी खूबसूरत शहर है ऐसा माना जाता है कि इसे काफी पहले स्थापित किया गया था। यह अत्यंत प्राचीन शहर होने के साथ-साथ हिंदू मान्यताओं का केंद्र भी है। इस शहर का प्रमुख आकर्षण यहां मौजूद श्री रंगनाथस्वामी मंदिर है। इस शहर की आबादी लगभग 9.7 लाख है लेकिन इतनी बड़ी आबादी वाले शहर को साफ सुथरा रख पाना काफी ज्यादा मुश्किल भले ही हो पर यहां के लोगों ने अच्छे नागरिक का परिचय देते हुए इस शहर को साफ़ रखा है। यह शहर भगवान शिव को समर्पित माना जाता है। यहां पर भगवान शिव के कई मंदिर मौजूद है। इन्हीं मंदिरों के कारण यहां पर भारी संख्या में श्रद्धालु आते हैं।

8. नई दिल्ली

भारत का दिल कही जाने वाली दिल्ली भारत का दूसरा सबसे  ज्यादा आबादी वाला नगर है और दुनिया का आठवां सबसे ज्यादा आबादी वाला नगर है। दिल्ली नगर में मौजूद दो शहरों को साफ शहरों की इस लिस्ट में शामिल किया गया है वे दो शहर हैं-  नई दिल्ली मुंसिपल काउंसिल और दिल्ली कैंट। इसके अलावा दिल्ली के अन्य शहरों में प्रदूषण बहुत ज्यादा है। दोस्तों मैं आपको यह बताता हूं कि दिल्ली में प्रदूषण, खराब हवा के कारण है इसका सफाई से कोई लेना देना नहीं है। दिल्ली को साफ सुथरा रखने का क्रेडिट यहां के लोगों को जाता है वहीं दिल्ली को गंदा रखने का क्रेडिट यहां के लोगों से ज्यादा आने वाले टूरिस्ट को जाता है। दिल्ली में इंडिया गेट, हुमायूं का मकबरा, लाल किला, जामा मस्जिद जैसी जगहें हैं जिनके कारण लोग दिल्ली की ओर खींचे चले आते हैं। साथ ही दिल्ली एजुकेशन और ट्रेड का केंद्र भी है।

9. नवी मुंबई

नवी मुंबई, मुंबई शहर का ही एक हिस्सा है। दोस्तों इस शहर की आबादी 11 लाख के लगभग है। और यह भारत के प्रमुख साफ शहरों में से एक है। जहां मुंबई को भारत की औद्योगिक राजधानी कहा जाता है वही नवी मुंबई भी इस दर्जे को प्राप्त कर चुकी है। यह ग्रेट सेंटर होने के साथ-साथ लोगों के लिए सुकून भरी जगह भी है। इसका कारण है यहां के पेड़ पौधे और साफ-सफाई। इस शहर को स्मार्ट सिटी बनाने की कोशिश की जा रही है।

10. तिरुपति

तिरुपति आंध्र प्रदेश के प्रमुख शहरों में से एक है। यह शहर हिंदू आस्था का केंद्र है। यहां तिरुमाला की पहाड़ियां है जिस पर वेंकटेश्वर मंदिर मौजूद है। यह मंदिर तिरुपति का प्रमुख आकर्षण है और इसी के कारण यहां पर हर साल लाखों की तादाद में श्रद्धालु आते हैं। ऐसे में आमतौर पर यही सोचा जाता है कि यह जगह काफी गंदी होगी लेकिन ऐसा नहीं है। नेशनल सर्वे के अनुसार यहां के लोग साफ सफाई पर बहुत ज्यादा ध्यान देते हैं। इस कारण यह जगह भारत के साफ शहरों की सूची में 10वें नंबर पर है।

आशा है आप लोगों को यह पोस्ट “भारत के सबसे साफ शहर 2019  India’s top 10 cleanest city 2019″ अवश्य पसंद आई होगी। अगर हमारा यह छोटा सा प्रयास अच्छा लगा हो तो आपसे विनम्र निवेदन है कि इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें जिससे हमें मनोबल प्राप्त होगा और हम आपके लिए ऐसे ही ज्ञानवर्धक पोस्ट लाते रहेंगे। अगर आपके मन में कोई सुझाव या शिकायत है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं। अपना बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद।